• 16 May, 2022
Foreign Affairs. Geopolitics. National Security.
MENU

एस-125 पिचोरा मिसाइल सिस्टम का विकास, कितना कारगर?

ग्रुप कैप्टन आर के दास
रवि, 09 जनवरी 2022   |   6 मिनट में पढ़ें

एसए-3 पिचोरा जमीन से हवा में मार करने वाली सोवियत मूल की मिसाइल प्रणाली है। लंबे समय से यह प्रणाली भारतीय वायु सेना (आईएएफ) की वायु रक्षा की रीढ़ रही है। यह प्रणाली 60 साल पुरानी है। इसे पहली बार 1961 में सोवियत संघ द्वारा सेवा में शामिल किया गया था। आईएएफ में पिचोरा के 25 स्क्वाड्रन काम करते हैं।

1974-90 के बीच रूस से खरीदे गए पिचोरा प्रणालियों को भारतीय वायुसेना के सीमावर्ती स्टेशनों पर तैनात किया गया है। इस साल के अंत तक इनकी संख्या आधी से भी कम होकर केवल 24 परिचालन इकाइयों तक रह जाएगी। रक्षा मंत्रालय की 2006 की रिपोर्ट के अनुसार यह प्रणाली ”उम्र बढ़ने और समर्थन की कमी” से जूझ रही है।

एकीकृत मार्गदर्शन मिसाइल विकास कार्यक्रम 1983 में तब शुरू हुआ जब भारत सत्तर के दशक में एक रूसी मिसाइल को रिवर्स इंजीनियर करने में विफल रहा, जिसके प्रमुख एपीजे अब्दुल कलाम थे। हालांकि, 25 साल बाद भी डीआरडीओ मिसाइलें लक्ष्य से परे रहती हैं। सेना भी युद्ध के मैदान में तैनात की जाने वाली मिसाइल पृथ्वी पर तब तक भरोसा नहीं कर सकती, जब तक कि उसकी प्रक्षेपण की तैयारी को प्रभावित करने वाले तकनीकी मुद्दों का समाधान नहीं हो जाता। त्वरित प्रतिक्रिया वाली विमान-रोधी मिसाइल त्रिशूल भी बेकार निकली और अब इसे वायु सेना के लिए एक अस्थायी व्यवस्था के रूप में विदेशी तकनीक को शामिल कर पुनर्जीवित किया जा रहा है, जब तक कि इज़राइल से स्पाइडर मिसाइल सिस्टम नहीं आ गया। अप्रचलित रूसी एसए-3 पिचोरा और ओएसए-एके मिसाइल प्रणालियों के बेड़े के साथ वायु सेना इस दुविधा में है कि कैसे पश्चिमी क्षेत्र की रक्षा प्रणाली की खामियों को ठीक किया जाय क्योंकि डीआरडीओ इसे करने में विफल रहा है।

अधिकांश प्रमुख भारतीय एयरबेस को एसए-3 पिचोरा-1बी एसएएम के एक पूर्ण स्क्वाड्रन द्वारा सुरक्षा प्रदान किया जाता है। भारतीय सीमा और नियंत्रण रेखा के करीब कुछ ठिकानों में ओएसए-एकेएम मोबाइल एसएएम की अतिरिक्त तैनाती है और लगभग सभी ठिकानों पर सुरक्षा है, जो राडार निर्देशित 40 मिमी बोफोर्स एल -40/70 एएए बंदूकें और इग्ला-1 एम एमएएनपीएडीएस के आसपास हैं। इन संपत्तियों को नियंत्रित करने वाले बीएडीजेड में अपने हब पर एक चरणबद्ध-ऐरे रडार होता है, जो एसएएम और एएए इकाइयों की निगरानी और हथियार नियंत्रण रडार द्वारा संवर्धित होता है और इंद्र-1 निम्न-स्तरीय रडार द्वारा पूरक होता है। गैर-सैन्य लक्ष्य, जैसे कि आर्थिक और महत्वपूर्ण औद्योगिक स्थल भी पिचोरा और बोफोर्स एएए बंदूकों की सुरक्षा में हैं।

पिचोरा की सीमा लगभग 25 किमी और शीर्ष सीमा 18 किमी है। इसकी सीमा को 32 किमी और शीर्ष सीमा को 20 किमी तक बढ़ाया जा सकता है। इसके अलावा, सिस्टम से जुड़े ‘लो ब्लो’ रडार को 25 किमी की रेंज वाले टीवी कैमरों के साथ फिट किया गया है (ये प्रभावी नाइट-विज़न डिवाइस से भी लैस हो सकते हैं) जिससे सिस्टम एक गहन ईसीएम वातावरण में लक्ष्य को संलग्न करने में सक्षम हो सके। इंवेंट्री में 25 से अधिक स्क्वाड्रन के साथ, मध्यम दूरी की पिचोरा मिसाइलें, जिन्हें एसए-3 के रूप में भी जाना जाता है, फिक्स्ड लैंड-बेस्ड और मोबाइल ट्रक-माउंटेड हैं। भारतीय वायुसेना के तुगलकाबाद में नंबर 7 बेस रिपेयर डिपो द्वारा इनके जीवन विस्तार पर अध्ययन किया जाएगा, जो मिसाइलों और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की मरम्मत और रखरखाव के लिए जिम्मेदार है।

एस-400 ट्रम्फ वायु रक्षा प्रणाली जिसे भारत ने हाल ही में रूस से आयात करना शुरू किया है, को भारतीय मीडिया में ‘दुनिया का सबसे अच्छा’, एक ‘गेम चेंजर’, एक ब्रह्मास्त्र (हिंदू पौराणिक कथाओं का अचूक दिव्य हथियार) और एक ऐसे हथियार के रूप में प्रतिष्ठित किया गया है जो पाकिस्तान और चीन को थर-थर कांपने पर मजबूर कर देगा, बिल्कुल सच नहीं है। चीन के पास पहले से ही रूस से आयातित प्रणाली है और निश्चित रूप से वे इसके सभी तकनीकी मानकों को पाकिस्तान को सौंप देते। बहरहाल, S-400 को भारतीय वायुसेना में शामिल किये जाने से यह और सुदृढ़ होगा।

हमें गहन विचार-मंथन की आवश्यकता है कि क्या हमें पुराने एसएएम पिचोरा को उन्नत रूप में विकसित कर जारी रखना चाहिए। क्या हमने इसी तरह के सैन्य और वायु सेना के उपकरण व विमानों से सबक नहीं लिये हैं। मिग-21 इसका प्रमुख उदाहरण है। क्या मिग-21 बाइसन में अपग्रेड होने के बाद भी दुर्घटनाएं कम हुई हैं।

बेंगलुरु की एक रक्षा और एयरोस्पेस कंपनी को 590 करोड़ रुपये की लागत वाली एक परियोजना मिली है। अल्फा डिजाइन टेक्नोलॉजीज ने हाल ही में रक्षा मंत्रालय के साथ पुराने पिचोरा मिसाइल और रडार सिस्टम को अपग्रेड और डिजिटाइज करने के लिए एक अनुबंध पर हस्ताक्षर किया है। पिचोरा मिसाइल और रडार सिस्टम, जो वर्तमान में भारतीय वायु सेना द्वारा उपयोग किए जाते हैं, 40 वर्ष से अधिक पुराने हैं। 2016 में, IAF ने पुराने सिस्टम को अपग्रेड करने के लिए एक टेंडर जारी किया था।

रूस के साथ साझेदारी में यह उन्नयन परियोजना चार साल में पूरी की जाएगी। इसमें बड़ी संख्या में स्वदेशी रूप से विकसित उपकरण होंगे, जैसे कि रडार ट्रांसमीटर, थर्मल इमेजर-आधारित इलेक्ट्रो-ऑप्टिकल सिस्टम, संचार उपकरण, ड्राइव श्रृंखला का उन्नयन, नियंत्रण केबिन, शेल्टर, केबल आदि।

इस उन्नयन परियोजना के तहत, अल्फा डिजाइन 16 पिचोरा सिस्टम को अपग्रेड करेगा। इस अपग्रेड को सफलतापूर्वक शुरू करके कंपनी को अनुबंध में आठ और सिस्टम हासिल करने की उम्मीद है।

पिछले साल पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में भारत-चीन विवाद के बाद, भारत ने संवेदनशील क्षेत्रों में आकाश की जमीन से हवा में मार करने वाली मिसाइलों के साथ-साथ पिचोरा, ओसा-एके और स्पाइडर सिस्टम जैसी अपनी वायु रक्षा प्रणालियों को तैनात करने की जानकारी दी है। पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में अपनी आक्रामक मुद्रा को मजबूत करने के लिए पीपुल्स लिबरेशन ऑफ आर्मी वायु सेना के असामान्य गतिविधियों के जवाब में यह कदम उठाया गया। स्वाभाविक रूप से, भारत को अपनी वायु रक्षा प्रणाली को वहां अपनी क्षमता को मजबूत करने के लिए तैनात करना पड़ा।

एशियाई देशों में भारत को दो परमाणु शक्तियों-चीन और पाकिस्तान से खतरा है। पाकिस्तान ने परमाणु ब्लैकमेल रणनीति का उपयोग करते हुए, भारत के खिलाफ आतंकी अभियान शुरू कर दिया है और उसे लगता है कि परमाणु हथियारों के कारण भारतीय उससे प्रतिशोध लेने से हिचकेंगे।

इस दोहरे खतरे का मुकाबला करने के लिए, भारत को एक व्यापक बैलिस्टिक मिसाइल रक्षा प्रणाली को अपनी प्रमुख रक्षा प्राथमिकताओं में से एक बनाना चाहिए। एक प्रभावी मिसाइल रक्षा नेटवर्क, जो सभी प्रमुख सैन्य, बुनियादी ढांचे और नागरिक लक्ष्यों को कवर करता है, भारतीय शहरों को पाकिस्तान के पागल शासन की किसी भी हमले से रक्षा कर सकता है। भारत को हवाई हमलों से खतरों का सामना करना पड़ता रहेगा। मुख्य खतरा पाकिस्तान और चीन द्वारा लॉन्च की गई छोटी, मध्यम और मध्यम दूरी की बैलिस्टिक मिसाइलों से आता है। समय के साथ, इन्हें गुप्त क्रूज मिसाइलों द्वारा संवर्धित किया जाएगा जो भारत के संपूर्ण भूभाग के लिए एक स्पष्ट खतरा होगा। ऐसे में कोई भी लक्ष्य, चाहे वह सीमाओं से कितनी भी दूर हो-हमले से सुरक्षित नहीं है।

भविष्य के इन खतरों से निपटने के नजरिये से वर्तमान वायु रक्षा नेटवर्क में कई खामियां हैं। भारत की सुरक्षा को उन्नत करने के लिए क्या करने की आवश्यकता है, यह देखने से पहले इन कमियों का जायजा लेना उचित है। भारत के एसएएम और मानवयुक्त इंटरसेप्टर में बैलिस्टिक मिसाइलों के खिलाफ कोई सार्थक क्षमता नहीं है। बैलिस्टिक मिसाइलों के हमले से बचने के लिए पूरी प्रणाली अपर्याप्त है। इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है कि परमाणु हमले से पहले रक्षा कवच को भेदने के लिए हमले होंगे। उल्लेखनीय है कि एडीजीईएस नेटवर्क को उस समय डिजाइन किया गया था जब चीन से भारत के लिए मिसाइल का खतरा सबसे अधिक था और पाकिस्तान से उसका अस्तित्व ही नहीं था। अब समय कितना बदल गया है।

रक्षा संबंधी स्थायी समिति ने वर्ष 2000 में संसद में एक रिपोर्ट प्रस्तुत की थी। रिपोर्ट के अंश इस प्रकार हैं ‘सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइलें वायु रक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। समिति को बताया गया है कि वायु सेना की सूची में रूसी मिसाइलें पुरानी हैं और उन्हें बदलने की जरूरत है। एक प्रभावी वायु रक्षा स्थापित करने के लिए, अधिक सक्षम, घातक और शक्तिशाली सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइलों की आवश्यकता है। मिसाइलों के संबंध में समिति के समक्ष प्रस्तुत योजना के अनुसार, दसवीं योजना के दौरान पिचोरा श्रेणी की मिसाइलों को उन्नत किया जाएगा और अंततः ग्यारहवीं योजना के दौरान आकाश मिसाइलों द्वारा प्रतिस्थापित किया जाएगा। इस प्रकार, ग्यारहवीं योजना के दौरान आकाश मिसाइलों को केवल कुछ ही समय में शामिल किया जाएगा। मंत्रालय द्वारा यह स्वीकार किया गया है कि मिसाइल कार्यक्रम में काफी देरी हुई है। शामिल कब किये जायेंगे इसके संभावित समय के बारे में अभी तक कोई ठोस प्रतिबद्धता नहीं है। यह एक और उदाहरण है जहां हथियार प्रणालियों का स्वदेशी विकास बिना किसी निश्चित समय सीमा के योजनाओं का शिकार हो जाता है। समिति चाहती है कि आकाश और त्रिशूल मिसाइलों का विकास और उत्पादन तेजी से किया जाए ताकि उन्हें जल्द से जल्द शामिल किया जा सके। वर्तमान में वायु सेना द्वारा तैयार की गई समय सीमा बहुत लंबी है। समिति सरकार को सिफारिश करती है कि आधुनिक उपकरणों और हथियारों जैसे निम्न स्तर के रडार, सतह से हवा में निर्देशित हथियार, कंप्यूटर एडेड कमांड और कंट्रोल कम्युनिकेशन सिस्टम और एसएसएम हमले से सुरक्षा प्रणाली के लिए पर्याप्त धनराशि जारी की जानी चाहिए।’

युद्ध कोई दूसरा विकल्प नहीं देता और आधुनिक विमानों में पर्याप्त ईडब्ल्यू सुइट्स लगे होते हैं जो उस तकनीक से बचने और जाम करने के लिए लगे होते हैं जिसने विकास के साथ खुद को उन्नत नहीं किया है। अपग्रेड के साथ भी पिचोरा पुरानी प्रणाली है और आईएएफ की वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली की आवश्यकताओं में फिट नहीं बैठती। इन सारी संभावनाओं को ध्यान में रखते हुए हमें अपनी रक्षा प्रणाली को सुदृढ़ करना होगा।

********************************************************

लेखक
ग्रुप कैप्टन आर के दास रक्षा सामरिक मामलों के विशेषज्ञ हैं। भारतीय वायु सेना में 28 वर्ष की विशिष्ट सेवा के दौरान रक्षा मंत्रालय में चीफ पीआरओ औैर तीनों सेनाों के प्रवक्‍ता रहे। इससे पहले कोलकाता स्थित पूर्वी कमान में सेवाएं दी। महत्‍वपूर्ण विभागों में चीफ एडमिनिस्‍ट्रेटिव आफिसर, चीफ सिक्‍योरिटी आफिसर एयर बेस के तौर पर सेवाएं दी हैं। वेलिंगटन में डीएसएससी के एल्युमिनी हैं। वायु सेना प्रमुख और सेना कमांडर द्वारा वीएसएम और प्रशंसा से सम्मानित हो चुके हैं।

अस्वीकरण

इस लेख में व्यक्त विचार लेखक के निजी हैं और चाणक्य फोरम के विचारों को नहीं दर्शाते हैं। इस लेख में दी गई सभी जानकारी के लिए केवल लेखक जिम्मेदार हैं, जिसमें समयबद्धता, पूर्णता, सटीकता, उपयुक्तता या उसमें संदर्भित जानकारी की वैधता शामिल है। www.chanakyaforum.com इसके लिए कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।


चाणक्य फोरम आपके लिए प्रस्तुत है। हमारे चैनल से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें (@ChanakyaForum) और नई सूचनाओं और लेखों से अपडेट रहें।

जरूरी

हम आपको दुनिया भर से बेहतरीन लेख और अपडेट मुहैया कराने के लिए चौबीस घंटे काम करते हैं। आप निर्बाध पढ़ सकें, यह सुनिश्चित करने के लिए पूरी टीम अथक प्रयास करती है। लेकिन इन सब पर पैसा खर्च होता है। कृपया हमारा समर्थन करें ताकि हम वही करते रहें जो हम सबसे अच्छा करते हैं। पढ़ने का आनंद लें

सहयोग करें
Or
9289230333
Or

POST COMMENTS (1)

guddu

जनवरी 10, 2022
jaisi bhi hai ye mar do pak!$tan per

Leave a Comment