• 25 September, 2022
Foreign Affairs. Geopolitics. National Security.
MENU

अंतरराष्ट्रीय मामले

चीन की अर्थव्यवस्था को पश्चिम से अलग-थलग होने का जोखिम

लंदन, पांच फरवरी (द कन्वरसेशन): बीजिंग शीतकालीन ओलंपिक खेल शुरू होने के साथ ही सारी दुनिया की नजरें फिर से चीन पर जा टिकी हैं। उइगर एवं अन्य अल्पसंख्यक समुदायों…

भाषा एवं चाणक्य फोरम

अमेरिकी हमले में हलाक आईएस नेता, आतंकवादी समूह के लिए कितना बड़ा नुकसान?

वाशिंगटन, चार फरवरी (द कन्वरसेशन) : सीरिया में अमेरिकी विशेष बलों द्वारा रात भर की गई छापेमारी में आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट के नेता की मौत हो गई । अबू…

भाषा एवं चाणक्य फोरम

क्या है नाटो और यूक्रेन क्यों शामिल होना चाहता है?

न्यूयॉर्क, एक फरवरी (द कन्वरसेशन) :यूक्रेन को लेकर रूस का उकसाने वाला रवैया अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चिंता का विषय बना हुआ है, जबकि रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने हमले…

भाषा एवं चाणक्य फोरम

बदहवास इमरान चीन में क्या हासिल कर लेंगे?

लगातार अलोकप्रिय होते जा रहे इमरान खान को लेकर पाकिस्तान में अनिश्चय बढ़ता जा रहा है। पर्यवेक्षक वर्तमान व्यवस्था को बदलने का सुझाव देने लगे हैं। हालांकि उनका कार्यकाल अगले…

प्रमोद जोशी

यूरोप में मंडराते युद्ध के बादल: यूक्रेन पर नाटो-रूस गतिरोध

अभी हाल ही में रूस ने मनोवैज्ञानिक युद्ध का एक अच्छा लेकिन बहुत पुराना तरीका आजमाया। इसने व्यापक रूप से प्रचारित किया कि भारी संख्या में सैनिकों को 'युद्ध के मोर्चे' पर…

लेफ्टिनेंट जनरल सैयद अता हसनैन (सेवानिवृत्त)

यूक्रेन और रूस: दो देश जिनकी ‘साझा’ अतीत की यादें ज्यादा भिन्न नहीं हैं

 28 जनवरी (द कन्वरसेशन): यूक्रेन के आसपास रूसी सेनाओं के हाल के जमावड़े के बीच व्लादिमीर पुतिन के इस दावे, कि रूसी और उक्रेनी लोग समान ऐतिहासिक और आध्यात्मिक स्थान…

भाषा एवं चाणक्य फोरम

लंदन में पाकिस्तान का जम्मू-कश्मीर पर आरोप: हास्यास्पद पर हल्के में ना लें

'हाइब्रिड' (मिश्रण या भ्रम) रणनीति में जब एक राष्ट्र शामिल होता है, तो उसका इरादा विरोधी को परेशान करना, तोड़ना, निराश करना और उसे हराना होता है। इसे हासिल करने…

लेफ्टिनेंट जनरल सैयद अता हसनैन (सेवानिवृत्त)

नित नई चीनी चुनौतियां भारत को कर रहीं सतर्क

एक ओर जहां चीन में जन्म दर लगातार पांचवें वर्ष घटी है, जिससे विश्व की सबसे अधिक आबादी वाले देश के ऊपर मंडराते जन सांख्यिकी खतरे और उसके चलते होने…

डॉ सुरेंद्र कुमार मिश्र

दक्षिण एशिया में चीन और अमेरिका की टेढ़ी चालें

महाशक्तियों की महत्वाकांक्षाएं असीमित होती हैं। स्वाभाविक है कि वे आपस में टकराएंगी। ऐसे टकराव कभी कम तीव्रता वाले होते हैं तो कभी बहुत अधिक। युद्ध, विश्व युद्ध अथवा शीतयुद्ध…

डॉ. रहीस सिंह

परमाणु युद्ध पर अंकुश लगाने का संकल्प

विश्व की प्रमुख पांच परमाणु शक्तियों ने संभवतया पहली बार हथियारों के प्रसार को रोकने के लिए एक संयुक्त संकल्प लिया और यह की स्पष्ट किया कि परमाणु युद्ध कोई…

डॉ सुरेंद्र कुमार मिश्र

ड्रैगन की सवारी को तैयार भारत

आजादी के बाद भारत ने विश्व बंधुत्व की भावना से काम करना शुरू किया। अपने पड़ोसी देशों के साथ भी उसकी भावना यही रही। चीन के साथ पंचशील के माध्यम…

मेजर जनरल अशोक कुमार (सेवानिवृत्त)

चीनी धौंसपट्टी और प्रचार की रणनीति

चीन के साथ पूर्वी लद्दाख में गतिरोध के दो साल और 13 दौर की बातचीत के बाद भी मामला जस का तस है। समाधान आसान नहीं लगता। चीन पर  महाशक्ति…

प्रमोद जोशी

ताज़ा खबर