• 05 December, 2022
Geopolitics & National Security.
MENU

रेजांग ला का युद्ध : माटी पर मर मिटे, शीश न झुकने दिया

मेजर गौरव आर्या (रि.)
शुक्र, 19 नवम्बर 2021   |   6 मिनट में पढ़ें

भारतीय सेना का इतिहास वीरता और असाधारण पराक्रम की कहानियों से भरा हुआ है। साहस की ये कहानियां इतनी जबरदस्त हैं कि मानव मन के लिए यह समझ पाना बहुत मुश्किल है कि क्या सचमुच ऐसे लोग इस धरती पर आये  थे।

नवंबर की एक ठंडी और निर्मम रात में, – शीतदंश सहते, थके हुए, भूखे  1230 भारतीय सैनिकों ने संख्या में उनसे बहुत अधिक और उग्र चीनी सेना की ताकत को ललकारा था।

18 नवंबर 1962 को, मेजर शैतान सिंह, चार्ली कंपनी और 13 कुमाऊं रेजीमेंट के वीर सैनिक हमेशा के लिए प्रसिद्ध व्यक्तियों की श्रेणी मे शामिल हो गए।

यह एक अकल्पनीय बलिदान की कहानी है। यह कठिन बाधाओं के खिलाफ खड़े व्यक्तियों की कहानी है। यह कहानी उन भारतीय सैनिकों की है, जिन्होंने अपनी मौत को आँखों के सामने देखा और फिर भी पलकें नहीं झपकाईं।

यह है रेजांग ला के युद्ध की कहानी

अक्टूबर माह में भारतीय चौकियों पर अपने शुरुआती हमले में, चीनियों ने काराकोरम रेंज के साथ-साथ दौलत बेग ओल्डी से दमचोक तक की सीमा चौकियों पर कब्जा कर लिया था। चुशुल की रक्षा की जिम्मेदारी 114 ब्रिगेड की थी, जिसके पास बटालियन संख्या में कम थी। एक इन्फैंट्री ब्रिगेड में 3 बटालियन होती हैं। 114 ब्रिगेड के पास सिर्फ 1/8 गोरखा राइफल्स और 5 जाट बटालियन थी। चुशुल के लिए खतरे की स्थिति को भांपते ही सैनिको की संख्या बढ़ाने के लिए 13 कुमाउ को बारामुला से 114 ब्रिगेड के लिए रवाना किया गया।

13 कुमाऊं की कंपनियों ने गन हिल, गुरुंग हिल और मुगर हिल जैसी ऊंचाइयों पर कब्जा कर लिया। चार्ली कंपनी को रेजांग ला की जिम्मेदारी दी गई, जो चुशूल के दक्षिण-पूर्वी रास्ते पर 19 किमी दूर एक दर्रा है। रेज़ांग ला पूरी तरह से चट्टानी है, हड्डियों को कंपा देने वाली ठंडी हवाओं के साथ कड़ाके की ठंड थी और सैनिक इस तरह के अत्यधिक कम तापमान के अभ्यस्त भी नहीं थे। कंपनी समुद्र तल से 16,404 फीट की ऊंचाई पर तैनात थी। आसपास के पहाड़ों की रूपरेखा ने इसे बाकी बटालियन से अलग कर दिया था।

कड़ाके की ठंड और तेज हवाओं के साथ बर्फबारी भी हो गयी थी। सर्दी से बचाव के कपड़ों की कमी ने चौकसी को और अधिक खतरनाक बना दियाl पहले से खराब स्थिति को और ज्यादा खराब करने के लिए, चार्ली कंपनी को “हथियारों और गोला बारूद की पहुँच” में भी बाधा थी। अर्थात यह एक ऐसी  मुश्किल स्थिति थी, जिसने चार्ली कंपनी को भारतीय सेना के तोपखाने के कवर और सुरक्षा की अनुमति नहीं दी थी।

चार्ली कंपनी बिना कवर के, बिना सहारे के और अपने दम पर निर्भर थी।

18 नवंबर को तड़के ही चीनी सेना ने कंपनी की 7वीं और 8वीं प्लाटून पर हमला कर दिया।

05.00 बजे चार्ली कंपनी राइफल, मशीनगन और मोर्टार के साथ-सामने आयी। इनकी जवाबी कार्रवाई बहुत आक्रामक थी जिसमें सैकड़ों चीनी सैनिक मारे गए। चीनी सेना की पहली लहर को खदेड़ दिया गया था।

05.40 बजे, चार्ली कंपनी तेज तोपों और मोर्टार गोलाबारी की चपेट में आ गई, और इस आग की आड़ में, लगभग 350 चीनी सैनिकों ने 9वीं प्लाटून पर भी हमला कर दिया। प्लाटून, अपने सही प्रशिक्षण के अनुसार ही, अंतिम क्षण तक   टिकी रही। जब चीनी केवल 90 मीटर दूर थे, तब 9वीं प्लाटून अपने सभी हथियारों के साथ सामने आ गई। उनका युद्ध विध्वंसक था और सैकड़ों चीनी शव “नाले” में तैरते दिखे। चीनी सेना की दूसरी लहर को भी खदेड़ दिया गया।

मेजर शैतान सिंह दुश्मनों पर फायरिंग करते हुए और अपने साथियों को प्रोत्साहित करते हुए एक प्लाटून से दूसरी प्लाटून में जा रहे थे। उन्होंने अपने जीवन के प्रति गंभीर खतरे को नजर अंदाज किया और लड़ते रहे। वे कहते हैं कि उन्होंने अपनी सुरक्षा से पूरी तरह बेखबर व्यक्ति की तरह लड़ाई लड़ी।

चीनियों के लिए, हताहतों की यह दर स्थायी नहीं थी। उन्होंने अपनी रणनीति बदल दी। 9वीं प्लाटून पर भीषण एमएमजी फायर किया गया और इस आग की आड़ में 400 चीनियों ने 8वीं प्लाटून पर पीछे से हमला किया। इस हमले को प्लाटून ने कंटीले तार की बाड़ पर रोका। इसके साथ ही, भारी हथियारों से लैस 120 चीनियों के आक्रमण समूह ने 7वीं प्लाटून पर पीछे से हमला कर दिया। 7वीं प्लाटून ने मोर्टार और राइफल फायर से जवाब दिया। दोनों पक्षों के भारी संख्या में लोग हताहत हुए।

अब तक, 7वीं और 8वीं प्लाटून की ताकत बुरी तरह समाप्त हो चुकी थी। जब चीनियों ने 7वीं प्लाटून पर फिर से हमला किया, तो हमारे सैनिक अपनी चौकी से बाहर निकल आए और चीनियों को आमने-सामने की लड़ाई में शामिल कर लिया। चीनी मजबूत होकर भी आये थे।

चार्ली कंपनी की पूरी 7वीं और 8वीं प्लाटून शहीद हो गई। कोई जीवित नहीं  बचा। 9वीं प्लाटून को गंभीर नुक्सान पहुंचा और गोला-बारूद खत्म हो गया था। बचे लोगों ने भारी हथियारों से लैस चीनियों के साथ हाथों से लड़ाई लड़ी।  पहलवान नायक राम सिंह ने सिर में गोली लगने से पहले अपने हाथों से कई चीनी सैनिकों को मार डाला।

मेजर शैतान सिंह लगातार लड़ रहे थे, प्लाटून से प्लाटून की ओर बढ़ रहे थे, अपने साथियों को प्रोत्साहित कर रहे थे और सामने से नेतृत्व कर रहे थे। लड़ाई के दौरान, वह एमएमजी फायर से गंभीर रूप से घायल हो गए थे। उन्हें वहाँ से निकाले जाने के दौरान चीनियों ने उन पर और उनके साथ आए दो सैनिकों पर गोलियां चलानी शुरू कर दीं। मेजर शैतान सिंह नहीं चाहते थे कि उसके सैनिक इस तरह मारे जाएँ, इसलिए उन्होंने आदेश दिया कि वे उसे अपने हथियार के साथ छोड़ दें और जाकर फिर से लड़ाई में शामिल हों।

13 कुमाऊं की चार्ली कंपनी ने युद्ध में पूरी कंपनी के शहीद होने से पहले चीनियों द्वारा किए गए सात हमलों को पूरी तरह से नाकाम कर खदेड़ दिया था।

21 नवंबर 1962 को चीन और भारत के बीच एकतरफा युद्धविराम की घोषणा की गई। जब भारतीय सेना ने युद्ध के बाद चार्ली कंपनी के स्थान का दौरा किया, तो मेजर शैतान सिंह अपने हथियार पकड़े हुए पाए गए। वो लड़ते-लड़ते शहीद हो गये थे। नर्सिंग सहायक को हाथ में पट्टियां और एक सिरिंज के साथ मृत पाया गया। मोर्टार सेक्शन के कमांडर मोर्टार राउंड पकड़े हुए मृत पाये गये। वह तब तक फायरिंग करते रहे जब तक कि उसके गोले खत्म नहीं हो गए और वह  मारे नहीं गये। चार्ली कंपनी के पास जो हजार मोर्टार राउंड थे, उनमें से केवल 7 ही बचे थे।

चार्ली कंपनी के 123 सैनिकों में से 114 सैनिक शहीद हो गए और 6 को चीनी सेना ने पकड़कर पीओडब्ल्यू के रूप में रखा। बाद में वे चमत्कारिक ढंग से भाग निकले। कर्तव्य की पुकार के अतिरिक्त विशिष्ट बहादुरी और पराक्रम के प्रदर्शन के लिए, मेजर शैतान सिंह भाटी को मरणोपरांत कृतज्ञ राष्ट्र के सर्वोच्च वीरता पुरस्कार, परम वीर चक्र से सम्मानित किया गया। कंपनी को असाधारण बहादुरी के लिए 8 वीर चक्र और 4 सेना पदकों से भी सम्मानित किया गया था। चार्ली कंपनी को बाद में “रेजांग ला कंपनी” के रूप में फिर से नामित किया गया।

मैं कुमाऊं रेजीमेंट से हूं और मैंने रेजांग ला के युद्ध का विस्तृत अध्ययन किया है। इतने वर्षों के बाद मुझे अभी भी आश्चर्य होता है कि मेजर शैतान सिंह और पूरी चार्ली कंपनी को स्वेच्छा से शहादत को गले लगाने के लिए किसने प्रेरित किया। आधुनिक युद्ध के इतिहास में यह अनसुना है।

मुझे नहीं पता कि रेजांग ला रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण है या नहीं, लेकिन 1962 की सर्दियों के उन काले दिनों में, पराजय के बाद पराजय का सामना करने वाली सेना के लिए, रेजांग ला एक राष्ट्रीय सम्मान का विषय बन गया। यह वह जगह थी जहां भारतीय सेना ने कहा “यहाँ तक, और आगे नहीं”। रेजांग ला सिर्फ “इज़्ज़त” के लिए नहीं था। कहीं न कहीं यह “ज़िद” हो गया था।

जोधपुर के मेजर शैतान सिंह भाटी के नेतृत्व में हरियाणा के 122 अहीरों ने माइनस -30 डिग्री सेंटीग्रेड पर “नाम, नमक, निशान” के लिए लड़ाई लड़ी।  सर्दी, असहनीय ठंड में, पतले स्वेटर और जैकेट में, गीले कैनवास के जूते  पहने, बुरी तरह से तैयार और द्वितीय विश्व युद्ध की विंटेज की .303 राइफलों से लैस, वे एक ऐसे दुश्मन के खिलाफ लड़े जो कहीं अधिक बेहतर सुसज्जित और सशस्त्र था।

जब उनके पास गोला-बारूद समाप्त हो गया, तो वे अपनी लाठियों से लड़े। जब उनकी लाठियां टूट गईं, तो वे नंगे हाथों से लड़े। हरियाणा के इन युवकों ने शायद इतने ऊंचे पहाड़ पहले कभी नहीं देखे थे। अधिकांश लोगों ने पहली बार हिमपात देखा। लेकिन यह भी सच है कि लद्दाख के पहाड़ों ने ऐसी धार कभी नहीं देखी।

इन बहादुर 122 सैनिकों ने 3000 आक्रमणकारी चीनियों के खिलाफ लड़ाई लड़ी और शहादत को गले लगाने से पहले 1300 से अधिक शत्रु मार गिराये।

आज, उन महानायकों की स्मृति के सम्मान में रेजांग ला में एक स्मारक  बनाया गया है। इसमें लिखा है:

एक आदमी बेहतर कैसे मर सकता है

भयंकर बाधाओं का सामना करने के लिए

अपने पिता की राख के लिए

और उसके देवताओं के मंदिर के लिए।

रेजांग ला के वीरों की पवित्र स्मृति में, 13 कुमाऊं के 114 शहीद जिन्होंने 18 नवंबर 1962 को चीनियों की भीड़ के खिलाफ लास्ट मैन, लास्ट राउंड, से लड़ाई लड़ी।

ऑल रैंक्स 13वीं बटालियन, द कुमाऊं रेजीमेंट द्वारा निर्मित

59 साल पहले आज ही के दिन मेजर शैतान सिंह भाटी ने चार्ली कंपनी को युद्ध में उतारा था और वे अमर हो गए।

*****************************************

अस्वीकृति: 13 कुमाऊं और 11 कुमाऊं दोनों शुद्ध अहीर बटालियन हैं। कुमाऊं रेजिमेंट में अन्य बटालियनें हैं जिनमें कुमाऊंनी, अहीर और कुछ अन्य जातियों का मिश्रण है। कुछ अन्य बटालियन शुद्ध कुमाऊंनी हैं, जहां सैनिक कुमाऊं क्षेत्र के हैं। मेरी बटालियन (17 कुमाऊं) कुमाऊं क्षेत्र से 100% सैनिकों के साथ एक शुद्ध कुमाऊंनी इकाई है। हालाँकि, भारतीय सेना (कुमाऊँ सहित) की सभी पैदल सेना रेजिमेंट के मामले में, अधिकारी पूरे देश से हैं।

****************************


लेखक
लेखक भारतीय सेना की कुमाऊँ रेजिमेंट के पूर्व अफसर हैं और वर्तमान में चाणक्य फोरम के एडिटर-इन-चीफ़ हैं। वह रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क में वरिष्ठ सलाहकार संपादक भी हैं।

अस्वीकरण

इस लेख में व्यक्त विचार लेखक के निजी हैं और चाणक्य फोरम के विचारों को नहीं दर्शाते हैं। इस लेख में दी गई सभी जानकारी के लिए केवल लेखक जिम्मेदार हैं, जिसमें समयबद्धता, पूर्णता, सटीकता, उपयुक्तता या उसमें संदर्भित जानकारी की वैधता शामिल है। www.chanakyaforum.com इसके लिए कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।


चाणक्य फोरम आपके लिए प्रस्तुत है। हमारे चैनल से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें (@ChanakyaForum) और नई सूचनाओं और लेखों से अपडेट रहें।

जरूरी

हम आपको दुनिया भर से बेहतरीन लेख और अपडेट मुहैया कराने के लिए चौबीस घंटे काम करते हैं। आप निर्बाध पढ़ सकें, यह सुनिश्चित करने के लिए पूरी टीम अथक प्रयास करती है। लेकिन इन सब पर पैसा खर्च होता है। कृपया हमारा समर्थन करें ताकि हम वही करते रहें जो हम सबसे अच्छा करते हैं। पढ़ने का आनंद लें

सहयोग करें
Or
9289230333
Or

POST COMMENTS (3)

rajendrasingh Chauhan

नवम्बर 20, 2021
Marsal races is proud of Indian army

SNEH PANDEY

नवम्बर 19, 2021
Feeling Proud 🙏 Jai Hind 🙏 Jai Bharat Bharat Mata ki Jai 🙏

Sadhna%20Singh%20

नवम्बर 19, 2021
Unforgettable%20brave%20soldiers%20of%20our%20country%20 👍👌🙏🇮🇳

Leave a Comment