• 03 March, 2024
Geopolitics & National Security
MENU
डॉ. रहीस सिंह
डॉ. रहीस सिंह

डॉ. रहीस सिंह, एक्सपर्ट विदेश नीति एवं अंतर्राष्ट्रीय संबंध के लेखक हैं। लगभग 25 वर्षों से नियमित कॉलम लेखन एवं पत्रकारिता के साथ-साथ दिल्ली में सिविल सेवाओं से जुड़े प्रतिभागियों के बीच अध्यापन। इसके समानांतर इतिहास, वैश्विक सम्बंध, विदेश नीति आदि विषयों पर करीब दो दर्जन पुस्तकों का लेखन (जिन्हें पियर्सन, मैक ग्रॉ हिल, लेक्सिस नेक्सिस, प्रभात प्रकाशन नई दिल्ली आदि द्वारा प्रकाशित किया गया है।


Articles Lists

दक्षिण एशिया में चीन और अमेरिका की टेढ़ी चालें

महाशक्तियों की महत्वाकांक्षाएं असीमित होती हैं। स्वाभाविक है कि वे आपस में टकराएंगी। ऐसे टकराव कभी कम तीव्रता वा

नए कौशल के साथ सबसे आगे दिखेगा भारत

 ‘‘आज का भारत दुनिया की बड़ी ताकत बनना चाहता है न कि बैलेंसिंग पावर। इसलिए भारत आज बड़ी वैश्विक जिम्मेदारी निभाने के

एस-400 पर अमेरिकी रुख के बावजूद रिश्‍ता मजबूत करेंगे भारत-रूस

रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन इसी सप्ताह में नई दिल्ली आ रहे हैं। उनकी इस यात्रा के दौरान भारत और रूस अपने परम

तनावों से गुजरती दुनिया के बीच राह बनाता भारत

वर्तमान वैश्विक परिदृश्य बहुत से निश्चित-अनिश्चित भू-रणनीतिक तनावों से गुजरता हुआ दिख रहा है। कार्नवाल (जी7) से रो

आर्थिक संकट छिपाने को सरहदों पर फुफकारता ड्रैगन

इन दिनों चीन एक बड़े आर्थिक संकट की तरफ जाता दिख रहा है। 2020 में कोविड 19 के वुहान कनेक्शन के बाद चीन कुछ समय के लिए विश्व

हिन्द-प्रशांत : बदलती रणनीति और भारत की अहमियत

दुनिया एक नयी विश्वव्यवस्था की तरफ खिसकती हुयी दिख रही है लेकिन अभी यह तय नहीं है कि जब विश्वव्यवस्था संक्रमण से ब