• 27 February, 2024
Geopolitics & National Security
MENU

अफगानिस्तान संकट में विभिन्न देशों की एकीकृत प्रतिक्रिया जरूरी

प्रोफेसर एमडी नालापत
बुध, 18 अगस्त 2021   |   8 मिनट में पढ़ें

अफगानिस्तान संकट में विभिन्न देशों की एकीकृत प्रतिक्रिया जरूरी

प्रोफेसर माधव नालापत

एक फ्रांसीसी दार्शनिक ने लिखा है कि “हम कभी भी वर्तमान के साथ समकालीन नहीं होते हैं”। अतीत हमारा पीछा करता है। जब भी हम वर्तमान के बारे में विचार करते हैं तो दूरवर्ती अतीत भी फ्रेम में रहता है। जब ऐसे भू-राजनीतिक परिवर्तन होते हैं जिससे बड़े-बड़े प्रभावित होते हैं तो नीति निर्धारकों के ऐसे निर्णय जो अतीत में मान्य थे और जिनके निष्कर्षों से वर्तमान प्रभावित होगा, वह आगे परेशानी का सबब बन जाते हैं।

यह एक रहस्य है कि अफगानिस्तान में परिस्थितियों के किसी भी समाधान के समय नीति निर्माताओं के दिमाग में मॉस्को क्यों छाया रहता है। विशेष रूप से 1970 के दशक से, एक लोकतांत्रिक देश बनाने के लिए, ब्रिटेन की तरह लोकतांत्रिक और चुनी हुई सरकार बनाने की, अफगान नरमपंथियों की विफलता का सबसे महत्वपूर्ण कारक क्रेमलिन था।

यूएसएसआर द्वारा बार-बार हस्तक्षेप के परिणामस्वरूप नरमपंथियों का पतन हुआ और काबुल में सोवियत के प्रॉक्सी ने अस्थायी रूप से कब्जा जमा लिया। वे जल्द ही एक-दूसरे से लड़ने लगे, और सोवियत सेना को उन पर कब्जा करने के लिए देश में भेजा गया। यह ज़ारिस्ट काल की याद दिलाने वाला कदम था, जिसका अफगानी लोगों द्वारा विरोध किया गया।

अमेरिका ने यूएसएसआर को नुकसान पहुंचाने का मौका देखा और राष्ट्रपति कार्टर के कार्यकाल में अफगानिस्तान को सोवियत संघ के लिए दलदल में बदलने की रणनीति शुरू की। दुर्भाग्य से, कार्टर और रीगन दोनों प्रशासनों ने फायर ब्रिगेड की चाबियां पाकिस्तान के चीफ मार्शल लॉ एडमिनिस्ट्रेटर (सीएमएलए) जनरल जिया-उल-हक को सौंप दीं।

डुरंड रेखा के दोनों ओर के पश्तून नागरिक एक एकीकृत पश्तून राज्य बनाना चाहेंगे (जिससे खान अब्दुल गफ्फार खान की इच्छाओं को पूरा किया जा सके), ज़िया ने अमेरिका को पश्तून धार्मिक कट्टरपंथियों को वापस करने के लिए राजी किया। उसी समय, कार्टर और रीगन दोनों ने वहाबवाद को खोमैनवाद के लिए एक प्रभावी एंटीडोट के रूप में देखा, जो 1979 में ईरान में फलने-फूलने लगा था, और सऊदी अरब और अन्य मध्य पूर्वी देशों को इस विश्वास को सशक्त बनाने के लिए प्रेरित किया, जिसकी मौलिक शिक्षाएँ कट्टरता से परे हैं।

अमेरिका की इस गंभीर त्रुटि ने ब्रिटेन की प्लेबुक का अनुसरण किया, जिसने बहुत पहले वहाबवाद को तुर्की खलीफा के साथ अरब में असंतोष पैदा करने के लिए प्रेरित किया था। खोमेनवादी आवेगों के वैश्विक शिया समुदाय पर प्रभाव को रोकने के बजाय, ईरान में सद्दाम हुसैन द्वारा प्रायोजित युद्ध ने उनके विभिन्न शाखाओं को उत्पन्न किया, जबकि दुनिया भर में कई स्थानों पर प्रभाव जमाने के लिए वहाबी इंटरनेशनल को अमेरिकी नीति द्वारा सशक्त बनाया गया।

9/11 की जड़ें कार्टर और रीगन के समय की हैं, लेकिन अमेरिका ऐसा देश नहीं है जो रंगीन चश्मे से अपने अतीत को देखता है। अमेरिका में राजनीतिज्ञों का एक बड़ा हिस्सा अभी भी मानता है कि गुलामों के लिए गुलामी एक अभिशाप के बजाय एक वरदान थी, और उन शिक्षाओं को अवरुद्ध करती है जो इस सच के विपरीत बताती हैं।

अमेरिका ने अचानक विश्वासघात किया है, उसने पहले कुर्दों की नव-वहाबी एर्दोगन के हाथों स्थिति खराब की, तालिबान के समक्ष  आत्मसमर्पण की बातचीत करके अफगानी लोगों और उनकी सरकार को धोखा देकर उस गलती को और बढ़ा दिया, राष्ट्रपति ट्रम्प ने मध्य पूर्व में वहाबवाद के प्रभाव को कम करने की कोशिश की थी।

आश्चर्यजनक रूप से, बाइडेन प्रशासन ने अब तक ऐसी विनाशकारी नीतियों को जारी रखा है, वह वहाबी तत्वों के प्रभाव के समक्ष झुक गया है और मिस्र, सऊदी अरब और अन्य सुधारवादी शासकों से मुंह मोड़ लिया है, जिन्होंने वहाबी और आधुनिकता और संयम की बहाली के लिए लड़नेवालों के बीच की अस्तित्व की लड़ाई (वह पवित्र ग्रंथ जिस पर मुस्लिम आस्था आधारित है) में प्रतिबद्धता दिखाई थी। 1979 के बाद, पवित्र ग्रंथ को वहाबी नजरिये से फिर से व्याख्या करने के प्रयास किए गए, एक ऐसा प्रयास जिसे एक सदी से अधिक समय पहले लंदन और बाद में वाशिंगटन का समर्थन प्राप्त था, जैसा कि सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस सहित मध्य पूर्व में कई लोगों द्वारा बताया गया है।

जहां तक राष्ट्रपति बिडेन का सवाल है, ऐसा लगता है कि उन्होंने अंततः वहाबी लॉबी के कम से कम कुछ प्रभाव से खुद को मुक्त कर लिया है। इस साल गाजा में हमास और इज़राइल के बीच संघर्ष चल रहा था, अंत में उन्होंने मिस्र के राष्ट्रपति से बात की (जिसने संघर्ष विराम की व्यवस्था की और संघर्ष समाप्त कर दिया, जिसका श्रेय व्हाइट हाउस ने लिया)। कई मुस्लिम बहुल देशों में वहाबी ज्वार का विरोध सिर चढ़ कर बोल रहा है और अमेरिकी प्रशासन में धार्मिक वर्चस्ववादियों ने उससे मुंह मोड़ रखा है। वे बिडेन को कमजोर समझ रहे थे और उनका गेम प्लान था कि बिडेन भी ऐसा ही करें लेकिन उन्होंने अब तक, ऐसा करने से इनकार कर दिया है।

वहाबी इंटरनेशनल का रिपब्लिकन और डेमोक्रेटिक पार्टी दोनों पार्टियों के कई नेताओं पर काफी प्रभाव है, और संभवतः यही कारण है जो राष्ट्रपति डोनाल्ड जे ट्रम्प द्वारा पहले एर्दोगन और बाद में तालिबान से समझौता करने के लिए जिम्मेदार है। राष्ट्रपति जोसेफ रॉबिनेट बिडेन जूनियर भी उस विनाशकारी नीति को जारी रखे हैं।

तालिबान द्वारा अफगानिस्तान पर कब्जा से अमेरिकी सुरक्षा के प्रति खतरे को यदि बिडेन समझ नहीं पाते, तो 2021 का उनका मौन “मिशन पूरा” उसी तरह खोखला साबित होगा जैसा 2003 में राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश के “मिशन पूर्ण” का दावा था।
जब तक राष्ट्रपति बिडेन अफगानिस्तान पर अमेरिकी नीति को तेजी से नहीं बदलते, तब तक उन्होंने जो गलती की है वह 2024 के राष्ट्रपति चुनावों से पहले ही उन्हें काटने के लिए वापस आ सकती है।

इस के लिए अमेरिका को पाकिस्तान के साथ नहीं बल्कि भारत के साथ अफगानिस्तान में और भारत के जरिये ईरान में साथ मिलकर काम करने की जरूरत है। 1939-45 में जर्मनी के साथ युद्ध में विंस्टन चर्चिल ने शानदार अटलांटिक गठबंधन कर इतिहास मंम एक उदाहरण प्रस्तुत किया था जिसका अनुसरण किया जाना चाहिए।

एक उदाहरण लीबिया है। अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस के ग्रंथों और टिप्पणियों को देखते हुए (तीनों ने लीबिया को एक कार्यशील राज्य के रूप में नष्ट किया), ऐसा प्रतीत होता है कि पूरी लड़ाई एक तानाशाह (मुअम्मर गद्दाफी) और उसके लोगों के बीच थी। यहां तक कि उनकी मृत्यु, जिसमें नाटो सदस्य राज्य की खुफिया सर्विस ने मुख्य भूमिका निभाई थी, को पूरी तरह से क्रोध से प्रेरित हत्या के रूप में चित्रित किया गया है।

अगर अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन ने तानाशाह और सनकी गद्दाफी को खत्म करने के लिए हथियारों, प्रशिक्षण और नकदी के साथ समर्थन करने से पूर्व कई लोगों द्वारा लिखे गए कुछ पैम्फलेट को पढ़ने में सावधानी बरती होती, तो उन्हें पता चल जाता कि उनकी गद्दाफी से नफरत का कारण क्या है। गद्दाफी उनकी रुचि के बहुत खिलाफ नहीं था, वह उन शक्तियों की कमजोरी थी जिन्होंने उसे खत्म करने के लिए हाथ मिलाया था।

यह बहुत कुछ सही है, क्योंकि गद्दाफी ने 2003 में नाटो के सदस्यों को अपना WMD भंडार सौंप दिया था। इराक में सद्दाम हुसैन ने 1990 में कुवैत पर कब्जे के कारण 1991 में अमेरिका के साथ हुए युद्ध में अपने स्वयं के WMD भंडार को नष्ट कर दिया था (या विदेश स्थानांतरित कर दिया था)।

बशर असद रासायनिक हथियारों के अपने WMD भंडार को नष्ट करने की प्रक्रिया शुरू करने वाले अंतिम व्यक्ति थे, जो जल्द ही कई थिएटरों में दिखाई दिए। उन पर आरोप लगे कि वे उनके थे, जबकि वास्तव में मॉस्को के दबाव के कारण उन्होंने सौंप दिया था। लीबिया के मामले के विपरीत, सौभाग्य से उसके लिए न तो रूस और न ही ईरान ने उसके शासन के पतन या उसके जीवन की समाप्ति की अनुमति दी। इन उदाहरणों के बाद, यदि कोई देश (जैसे उत्तर कोरिया) अपने WMD भंडार को उन्हीं शक्तियों को सौंपता है, जिन्होंने अपने हमलों को तेज करने की प्रवृत्ति दिखाई है, जिसे वे एक रक्षाहीन इकाई मानते हैं, ऐसा इसलिए होगा क्योंकि इसका पूरा नेतृत्व पिछले तीन दशकों के इतिहास से अनजान है। विशेष रूप से अमेरिका ने WMD भंडार वाले किसी भी देश को युद्ध में पराजित होने तक अपने WMD भंडार को दूसरों को सौंपने की संभावना को कम कर दिया है।

तालिबान अफगानिस्तान में अतिरिक्त क्षेत्रों पर कब्जा कर रहा है, और अफगान की राष्ट्रीय सेना के सैनिकों का आत्मसमर्पण करवा रहा है, जिस तरह आईएसआईएस ने 2014 में इराक के विशाल क्षेत्रों पर कब्जा कर लिया था। राष्ट्रपति बिडेन के अनुसार अफगानिस्तान नेशनल आर्मी में विश्वास की कमी है। उनके 300,000 सैनिक तालिबान बलों को हराने के लिए पर्याप्त रूप से सुसज्जित हैं लेकिन अभी तक उनको कहीं भी  तालिबानियों से लड़ने के लिए जरूरी हथियारों के करीब तक नहीं देखा गया। जिसे बिडेन ने एक चुनौती के रूप में खारिज कर दिया था।

सौभाग्य से 46वें अमेरिकी राष्ट्रपति के लिए, व्हाइट हाउस के प्रेस कोर ने यह नहीं पूछा कि अगर ऐसा है, तो 600,000 अमेरिकी सैनिक और $ 2 ट्रिलियन खर्च कर 20 वर्षों में उन्हें खत्म क्यों नहीं कर सके। त्रुटियों का सिलसिला लंबा है, और ऐसी संभावना नहीं है कि पेंटागन में पेपर्स पर जो कुछ हुआ था, उसकी समीक्षा कभी भी हो पाएगी, हालांकि इस तरह के अध्ययन की आवश्यकता है।

अमेरिका को भारत की जरूरत है और ईरान की भी जरूरत है, एक ऐसा देश जिसे साथ  लाने के लिए भारत को जिम्मा दिया जा सकता है। शिया के लिए वहाबियों की दुश्मनी को देखते हुए, यह संभावना नहीं है कि तेहरान में निर्वाचित सरकार अंकारा में जीएचक्यू रावलपिंडी और एर्दोगन प्रशासन की दोस्ती के विरोध में गंभीरता से विश्वास करेगी। उनके सामने समस्या चीन-वहाबी गठबंधन है, और तथ्य यह है कि वाशिंगटन ने ईरानी अर्थव्यवस्था का गला घोंटने की अपनी नीति से उस देश को चीन पर निर्भर बना दिया है।

जब तक वाशिंगटन और इसके यूरोपीय भागीदारों (2015 में जेसीपीओए के लिए प्रतिबद्ध) की बुद्धि नहीं खुलती, तब तक इस तरह की निर्भरता में बिंदुमात्र तक की कमी की संभावना नहीं है, जहां तेहरान दिल्ली के साथ मिलकर काम करने के लिए स्वतंत्र है और इसके माध्यम से वाशिंगटन के साथ भी। यह सुनिश्चित करने के लिए अफगानिस्तान में चुनी हुई सरकार को तालिबान से बचाना होगा और उनके द्वारा कब्जा किया गया क्षेत्र वापस करना शुरू करना होगा।

अफगानिस्तान में केवल अफगानी सैनिकों की जरूरत है, न कि अमेरिका या भारतीय सेना की। लेकिन वाशिंगटन को आपूर्ति लाइनों को चालू रखने की जरूरत है और भारत को एएनए को प्रशिक्षित करने की जरूरत है। अधिकांश प्रशिक्षण भारत में पहले ही दिया जा चुका है। नाटो बलों (जिन्हें तालिबान ने हराया है) द्वारा दिया गया युद्ध प्रशिक्षण बेकार से भी बदतर है, यह बिल्कुल उल्टा है।

जब तक अमेरिका और यूरोपीय संघ काबुल में सरकार को इसकी प्रमुखता सुनिश्चित करने के लिए पर्याप्त धन देने के लिए तैयार नहीं हैं, तब तक कई बार उस राशि को भविष्य में खर्च करने की आवश्यकता होगी, एक बार तालिबान के नियंत्रण में आने के बाद जैसा कि उन्होंने 1996 में क्लिंटन प्रशासन के समर्थन से किया था, जो संभवतः ज़ाल्मय खलीलज़ाद से प्रभावित थे, जो उस समय यूनियन ऑयल कंपनी ऑफ़ कैलिफ़ोर्निया और यूनोकल कॉर्पोरेशन (यूनोकल) के लिए एक पैरवीकार थे।

अफगानिस्तान को तालिबान से सुरक्षित करना यह सुनिश्चित करने के लिए महत्वपूर्ण है कि जीएचक्यू रावलपिंडी पाकिस्तान में सरकार चलाना बंद कर दे, और नागरिकों के नियंत्रण में आ जाए। यदि ऐसा नहीं होता (महासचिव शी यह सुनिश्चित करने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं कि ऐसा न हो), तो पाकिस्तान की मंदी अगली समस्या होगी जिससे भारत-प्रशांत गठबंधन को निपटना होगा।
इससे पहले, उन्हें यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि अफगान लोगों को एक बार फिर कट्टरता के चंगुल से बचाया जाए। इसके लिए भारत जरूरी है, अमेरिका और ईरान की भी जरूरत है क्योंकि खतरा विश्वव्यापी हैं।

यह ध्यान रहे कि अफगानिस्तान की वापसी के लिए जिन देशों की साझेदारी आवश्यक है रूसी संघ को उन देशों की सूची में शामिल नहीं किया गया है। अंतरराष्ट्रीय आतंकवादी संगठन अगर हमले शुरू करते हैं, तो उनका प्रमुख लक्ष्य अटलांटिक गठबंधन के प्रमुख देश होंगे।
क्लिंटन प्रशासन से पहले की नीतिगत त्रुटियों के कारण और जो बाद के प्रशासन के तहत भी जारी रहे, पुतिन के तहत रूस और शी के साथ चीन-रूसी गठबंधन बनाने के लिए आगे बढ़ा है। मॉस्को से लोकतंत्रों के लिए मददगार भूमिका निभाने की उम्मीद करना वैसा ही है जैसे कि पिछले युग अभी भी मौजूद थे।

दिल्ली इस वास्तविकता और भारत के लिए परिणामों को समझने में धीमी रही है, खासकर जब वह देश के भीतर और अपनी सीमाओं पर चीन-पाकिस्तान गठबंधन का सामना कर रही है। केवल वाशिंगटन को ही अतीत में जीना छोड़ वर्तमान की वास्तविकताओं में समायोजित करने की आवश्यकता नहीं है, बल्कि दिल्ली का भी यही हाल है।

अफगानिस्तान में स्थिति का विकास समय के साथ दिल्ली के नीति निर्माताओं को भी विश्वास दिलाएगा कि वैश्विक भू-राजनीति में भारी बदलाव हुए हैं, जो 1990 से शुरू होकर वर्तमान तक जारी है। अफगानिस्तान की वर्तमान स्थिति को देखते हुए जब तक समाधान के साथ वर्तमान की अत्यावश्यकताओं को पूरा करने के लिए नीतियों को समायोजित करने की जरूरत नहीं समझी जायेगी तब तक यही स्थिति रहेगी। अफगानिस्तान में यह बहुत पहले हो सकता था जो 1980 के दशक में सोवियत संघ और 2003 के बाद अमेरिका के साथ हुआ।
इलाज के लिए पहला कदम बीमारी के स्रोतों का पता लगाना है। उन्हें खत्म करने के तरीकों को विकसित करना है। इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में, अफगानिस्तान के मामले में यह जिम्मेदारी राष्ट्रपति बिडेन और प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी पर है।


लेखक
प्रोफेसर एमडी नालापत मनिपाल विश्वविद्यालय में मनिपाल एडवांस्ड रिसर्च ग्रुप के उपाध्यक्ष हैं। वह एक रणनीतिक विशेषज्ञ हैं और उनकी नई पुस्तक, "21 वीं सदी में भारत के लिए विदेश नीति", इस वर्ष के अंत तक विमोचन के लिए तैयार होगी।

अस्वीकरण

इस लेख में व्यक्त विचार लेखक के निजी हैं और चाणक्य फोरम के विचारों को नहीं दर्शाते हैं। इस लेख में दी गई सभी जानकारी के लिए केवल लेखक जिम्मेदार हैं, जिसमें समयबद्धता, पूर्णता, सटीकता, उपयुक्तता या उसमें संदर्भित जानकारी की वैधता शामिल है। www.chanakyaforum.com इसके लिए कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।


चाणक्य फोरम आपके लिए प्रस्तुत है। हमारे चैनल से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें (@ChanakyaForum) और नई सूचनाओं और लेखों से अपडेट रहें।

जरूरी

हम आपको दुनिया भर से बेहतरीन लेख और अपडेट मुहैया कराने के लिए चौबीस घंटे काम करते हैं। आप निर्बाध पढ़ सकें, यह सुनिश्चित करने के लिए पूरी टीम अथक प्रयास करती है। लेकिन इन सब पर पैसा खर्च होता है। कृपया हमारा समर्थन करें ताकि हम वही करते रहें जो हम सबसे अच्छा करते हैं। पढ़ने का आनंद लें

सहयोग करें
Or
9289230333
Or

POST COMMENTS (2)

अमित प्रसाद

अगस्त 19, 2021
आफगानिस्तान में तालिबान को जिस तरह से पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आई ऐस आई और पाकिस्तानी सेना एवं सरकार तीनों ने मिल कर दिया है। और अमेरिका से करोड़ों अरबों डॉलर लेकर भी उसे बहुत बूरी तरह से बेकू़फ बना कर तालिबान का कब्जा करवाया है। इस पर काम में भारत ने आफगानिस्तान की निर्वाचित हुई राष्ट्रपति अशरफ गनी की सरकार को उतनी सहायता प्रदान नहीं किया जितना, कि पाकिस्तान नहीं तालिबान को दिया है। शायद भारत ने जिस तरह से1971 में बंगलादेश मुक्ति वाहनी के जैसी सहायता देती। तब वर्तमान समय में जैसी आफगानिस्तान की हालत नहीं होती।

Sandeep kumar Deepak

अगस्त 18, 2021
post acchi Rahi

Leave a Comment