• 27 February, 2024
Geopolitics & National Security
MENU

पाक दक्षेस सम्मेलन की मेजबानी के लिए तैयार, भारत ऐसे होगा शामिल


मंगल, 04 जनवरी 2022   |   2 मिनट में पढ़ें

इस्लामाबाद, तीन जनवरी (भाषा): पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने सोमवार को कहा कि उनका देश 19वें दक्षेस शिखर सम्मेलन की मेजबानी करने के लिए तैयार है और भारतीय नेतृत्व यदि इस्लामाबाद आने को इच्छुक नहीं है, तो यह पड़ोसी देश (भारत) इसमें डिजिटल माध्यम से शामिल हो सकता है।

विदेश मंत्रालय की 2021 की उपलब्धियों को बयां करने के लिए बुलाए गये संवाददाता सम्मेलन में कुरैशी ने भारत पर शिखर बैठक के लिए इस्लामाबाद आने से इनकार कर अपनी हठधर्मिता के जरिए ‘‘क्षेत्रीय सहयोग के लिए दक्षिण एशियाई संगठन’’ (दक्षेस) को निष्क्रिय करने का आरोप लगाया।

उन्होंने कहा, ‘‘मैं 19वें दक्षेस शिखर सम्मेलन के लिए फिर से न्योता देता हूं। यदि भारत इस्लामाबाद आने को इच्छुक नहीं है तो वह डिजिटल माध्यम से इसमें शामिल हो सकता है …लेकिन उसे अन्य देशों को इसमें शरीक होने से नहीं रोकना चाहिए। ’’

दक्षेस, अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, भारत, मालदीव, नेपाल, पाकिस्तान और श्रीलंका का एक क्षेत्रीय संगठन है। यह 2016 से बहुत प्रभावी नहीं रहा है और इसकी शिखर बैठक 2014 (काठमांडू) के बाद नहीं हुई है।

दक्षेस शिखर सम्मेलन पर कुरैशी का यह बयान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा पिछले महीने यह उम्मीद जताये जाने के बाद आया है कि उनका देश शिखर सम्मेलन की राह में पैदा किये गये कृत्रिम अवरोध को हटाये जाने के बाद इस बैठक की मेजबानी करेगा।

उल्लेखनीय है कि 2016 में दक्षेस शिखर सम्मेलन मूल रूप से 15 से 19 नवंबर के बीच इस्लामाबाद में आयोजित किये जाने की योजना थी। लेकिन जम्मू कश्मीर के उरी में उस साल 18 सिंतबर को भारतीय थल सेना के एक शिविर पर आतंकी हमले के बाद भारत ने मौजूदा परिस्थितियों के चलते सम्मेलन में भाग लेने में अपनी असमर्थता जताई थी।

बांग्लादेश, भूटान और अफगानिस्तान द्वारा इस्लामाबाद सम्मेलन में भाग लेने से इनकार करने के बाद इसका आयोजन रद्द कर दिया गया था।

कुरैशी ने 2021 में भारत के साथ पाकिस्तान के संबंधों में कोई बदलाव नहीं होने का जिक्र करते हुए दोनों देशों के बीच अच्छे संबंधों की संभावना को बिगाड़ने के लिए भारत में ‘हिंदुत्ववादी सोच’ के वर्चस्व को जिम्मेदार ठहराया है।

उन्होंने कहा, ‘‘दुर्भाग्य से, भारत के साथ 2021 में संबंधों में कोई प्रगति नहीं हुई। हमारे विचार से, हाल के वर्षों में आक्रामक हिंदुत्व व्यवहार से क्षेत्रीय सहयोग प्रभावित हुआ है।’’

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान, भारत सहित सभी पड़ोसी देशों के साथ शांतिपूर्ण संबंध चाहता है लेकिन संबंधों में सुधार करने की जिम्म्मेदारी भारत की है।

कुरैशी ने कहा कि भारत के साथ शांति कश्मीर मुद्दे का हल किये बगैर संभव नहीं है।

चीन और अमेरिका के बीच कथित शीत युद्ध के बारे में एक सवाल के जवाब में कुरैशी ने का कि पाकिस्तान की नीति स्पष्ट है और वह किसी खेमे का हिस्सा नहीं बनेगा।

*******************************************************************




चाणक्य फोरम आपके लिए प्रस्तुत है। हमारे चैनल से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें (@ChanakyaForum) और नई सूचनाओं और लेखों से अपडेट रहें।

जरूरी

हम आपको दुनिया भर से बेहतरीन लेख और अपडेट मुहैया कराने के लिए चौबीस घंटे काम करते हैं। आप निर्बाध पढ़ सकें, यह सुनिश्चित करने के लिए पूरी टीम अथक प्रयास करती है। लेकिन इन सब पर पैसा खर्च होता है। कृपया हमारा समर्थन करें ताकि हम वही करते रहें जो हम सबसे अच्छा करते हैं। पढ़ने का आनंद लें

सहयोग करें
Or
9289230333
Or

POST COMMENTS (0)

Leave a Comment

प्रदर्शित लेख