• 29 September, 2022
Foreign Affairs. Geopolitics. National Security.
MENU

वैश्विक इस्लामी आतंकवाद पर तालिबान की “जीत” का प्रभाव

कर्नल दीपक कुमार
शुक्र, 24 सितम्बर 2021   |   8 मिनट में पढ़ें

वर्ष 2001 में आतंकवाद के विरुद्ध अमेरिका के नेतृत्व में किये जाने वाले युद्ध का  दुनिया भर के अधिकांश इस्लामी आतंकवादी समूहों पर अत्यधिक प्रभाव पड़ा था। यद्यपि, अफगानिस्तान से अमेरिका की अराजक और बेतरतीब वापसी को आतंकवाद के प्रति अमेरिका की वैश्विक नीति में बदलाव के रूप में देखा जा रहा है। अमेरिका-तालिबान दोहा समझौते के बाद अफगानिस्तान में तालिबान की सफलता को कुछ पक्षों द्वारा विश्व की सबसे शक्तिशाली सेना पर “जीत” के रूप में देखा जा रहा है। कई इस्लामी आतंकवादी समूहों ने तालिबान को उसकी कथित “जीत” पर बधाई भी दी है ।

अफगानिस्तान के इस घटनाक्रम ने विभिन्न आतंकी समूहों के गिरते मनोबल में बूस्टर खुराक का काम किया, जबकि आतंकवाद के विरुद्ध वैश्विक गठबंधन से इनकी हिंसक गतिविधियों में अत्यधिक कमी आ गयी थी। इस जीत की गूंज पूरी दुनिया में हर उस स्थान पर महसूस की गयी, जहां अति रूढ़िवादी इस्लामी जिहादी समूह मौजूद थे। दुनिया भर में कई जिहादी तालिबान की “जीत” पर अचंभित हैं और अफगानिस्तान के लिए एक रास्ता बना रहे हैं, जबकि कुछ अन्य अपने देशों को आज़ाद करवाने और शरिया के अनुपालन वाले प्रशासन का अफगानिस्तान मॉडल स्थापित करने की योजना बना रहे हैं।

यद्यपि, तालिबान का पुनरुत्थान अमेरिकी आतंकवाद विरोधी नीति में एक महत्वपूर्ण  परिवर्तन को प्रदर्शित करता है, जिसका अर्थ है, कि अब से आतंकवाद विरोधी प्रयासों के लिए कम शक्ति और ​​​ कम संसाधन प्रदान किए जायेंगे। निश्चित रूप से इसका अर्थ है विदेशी धरती पर कम सैनिक और पेंटागन द्वारा वैश्विक जिहाद का मुकाबला करने पर  कम ध्यान केंद्रित करना होगा।

दक्षिण और पश्चिम एशिया के अतिरिक्त, इस्लामी आतंकवाद के अभिशाप से प्रभावित अन्य क्षेत्रों में कमजोर शासन संरचना वाला प्रशासन तंत्र वाले अफ़्रीकी देश भी शामिल हैं। अफ्रीका में भारत के अनेक राजनीतिक, राजनयिक और आर्थिक हित हैं। इसलिए, भारत को वहां  की सुरक्षा स्थिति के सावधानीपूर्वक विश्लेषण के पश्चात् ही इन क्षेत्रों की अपनी रणनीति में संशोधन करना होगा।

इन जिहादी समूहों के आतंक से सबसे अधिक प्रभावित क्षेत्र अफ्रीका, लीबिया, मिस्र, कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य, माली, नाइजीरिया, कैमरून, सोमालिया और मोजाम्बिक के साहेल  हैं।

अलग अलग नामों वाले अधिकांश इस्लामी आतंकवादी समूह इस्लाम के एक ही सलाफिस्ट का पालन करते हैं। अतीत में किसी न किसी बिंदु पर इन समूहों ने अल कायदा, आईएसआईएस और तालिबान जैसे प्रमुख समूहों का समर्थन किया है और उनके प्रति निष्ठा अभिव्यक्त की है। निकट भविष्य में, इन समूहों  द्वारा अपने प्रभाव वाले क्षेत्रों में हिंसक जिहाद में तेजी लाने की संभावना है।

बोको हराम, जो आधिकारिक तौर पर जमात अहल के रूप में सुन्नत ढक्कन-दावा वाल-जिहाद के रूप में जाना जाता है, यह 2002 से पूर्वोत्तर नाइजीरिया में स्थित एक आतंकवादी संगठन है जो चाड, नाइजर और उत्तरी कैमरून में भी सक्रिय है। इस समूह ने अपने हिंसक जिहाद के माध्यम से हजारों नागरिकों की हत्या की। 2009 में नाइजीरियाई सेना द्वारा इसके संस्थापक नेता मोहम्मद यूसुफ की हत्या के बाद से इस समूह के हिंसक कृत्यों में आत्मघाती बम विस्फोट, सरकारी कार्यालयों और पुलिस भवनों तथा 2011 में अबूजा में संयुक्त राष्ट्र कार्यालय  पर हमले में अधिक  आधुनिकता देखी गई है।

बोको हरम द्वारा की गई हज़ारों हत्याओं और इस्लामिक माघरेब (एक्यूआईएम्) में अल कायदा और सोमालिया में अल शबाब के साथ इसके संबंधों का हवाला देते हुए, अमेरिका  ने वर्ष 2013 में इन्हें आतंकवादी संगठन के रूप में नामित और स्वीकृत किया। 2015 में, अमेरिका ने बोको हरम से लड़ाई में शामिल नाइजीरिया और अन्य अफ्रीकी देशों के लिए $45 मिलियन की राशि आतंकवाद विरोधी सहायता पैकेज के रूप में स्वीकृत की थी। इसके अतिरिक्त, इन देशों के आतंकवाद विरोधी प्रयासों में परामर्श  के लिए चाड में 300 सैन्य कर्मियों को तैनात किया। अमरीका के सहयोगी देश, फ्रांस और यूनाइटेड किंगडम आदि ने भी नाइजीरिया को आतंकवाद विरोधी प्रयासों में वित्त, सामग्री एवं कार्मिक सहायता प्रदान की । इसी प्रकार, 2013 में फ्रांस ने माली में  युद्ध के लिए 3000 सैनिकों को तैनात किया, जो आज तक वहां तैनात हैं।

अफगानिस्तान में पराजय के पश्चात, अमेरिका द्वारा किसी अन्य स्थान पर सैनिकों  की तैनाती की कोई संभावना नहीं है। यह मध्य और उत्तरी अफ्रीका में सक्रिय  इस्लामी समूहों के लिए एक स्वागत योग्य समाचार होगा। उन्हें अब अमेरिकी सेना के बेहतर खुफिया तंत्र और घातक मारक क्षमता का परिणाम नहीं भुगतना पड़ेगा। अमेरिका के आतंकवाद विरोधी प्रयासों से इन जिहादी समूहों को  पूर्व में अत्यधिक नुकसान हुआ  था, जो  निस्संदेह,  अब अफगानिस्तान में तालिबान की सफलता से प्रेरित और उत्साहित महसूस करेंगे।

अफगानिस्तान के  घटनाक्रम से इन समूहों के लिए एक  अन्य सकारात्मक पहलू  है कि  उनके अनुसार यदि वे लंबे समय तक टिके रह सकते हैं, तो वे अंततः अमेरिका जैसी श्रेष्ठ शक्ति का मुकाबला कर सकते हैं और उन्हें पराजित कर सकते हैं। एक पुरानी कहावत भी  है, “पारंपरिक सेना हार जाती है अगर वह ‘जीतता नहीं, लेकिन एक विद्रोही जीतता है अगर वह नहीं हारता’। यह वास्तव में तालिबान द्वारा पाकिस्तान में शरण लेने और लगभग दो दशकों तक जीवित रहने के कारण ही सही प्रमाणित हुआ है। वे बस फीके पड़ गए थे और उन्होंने पाकिस्तान के जंगलो में अपना समय बिताया था। तालिबान की सफलता से उत्साहित इन जिहादी समूहों की, शरीयत की तर्ज पर अपने-अपने राष्ट्रों पर शासन करने की महत्वाकांक्षा को भी बल मिला  हैं।

इसमें राज्य शक्तियों  के लिए भी एक सबक हैं, विशेष रूप से फ्रांस के लिए, जो माली में जिहादी समूहों से मुकाबला कर रहा है। इस सब से यह सबक मिलता है कि शीर्ष नेतृत्व को उसके उभरते ही खत्म करते रहना चाहिए। यह उग्रवाद को प्रबंधनीय  बनाए रखेगा। दूसरे, लोकतांत्रिक संस्थानों को राष्ट्र निर्माण के प्रयासों में स्थायित्व लाने का प्रयास करना चाहिए और साथ ही यह सुनिश्चित करने पर भी ध्यान देना होगा कि लोकतंत्र और विकास का लाभ अंतिम व्यक्ति, एवं सबसे वंचित व्यक्ति तक पहुंचे। किसी भी राज्य की स्थिरता और अस्तित्व के लिए सशस्त्र बलों को किसी बाहरी शक्ति के बिना स्वयं कार्य करने में सक्षम और स्वतंत्र बनाना अति महत्वपूर्ण है।

राष्ट्र निर्माण के प्रयासों का उद्देश्य एक समावेशी संगठित समाज का निर्माण होना चाहिए न कि केवल पश्चिमी शिक्षित शासक, तथा अभिजात वर्ग पर ध्यान केंद्रित हो,  अन्यथा एक बड़ा वर्ग आर्थिक और शैक्षणिक रूप से  कमजोर हो  जायेगा, जो समाज का शैक्षिक रूप से पिछड़ा और गरीब तबका है

फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रॉन ने हाल ही में कहा कि माली में उनके देश के आतंकवाद विरोधी प्रयासों से अब थकान हो रही है और फ्रांस वहां अपनी उपस्थिति कम कर सकता है। यद्यपि यह उचित है कि  विदेशी धरती पर आतंकवाद विरोधी ऑपरेशन थकान का कारण बन सकता है, वापसी के ऐसे प्रयासों के सीमित लाभ को गँवाना नहीं  चाहिए साथ ही सुरक्षा और राजनीतिक स्थिति में वृद्धि  करनी  चाहिए।

उत्तरी अफ्रीका में आतंकवाद विरोधी प्रयासों में किसी भी तरह की कमी का न केवल फ्रांस बल्कि अन्य यूरोपीय देशों की सुरक्षा पर भी हानिकारक प्रभाव होगा। फ़्रांस निश्चित रूप से अफगानिस्तान में अपने लगभग दो दशक लंबे हस्तक्षेप और राष्ट्र निर्माण के प्रयासों में अमेरिका की गलतियों से सीख लेगा तथा अपनी रणनीति को पुनर्गठित  करेगा। जिससे वह अमेरिका द्वारा की गयी गलतियों से अपना बचाव कर सकता है।  फ्रांस द्वारा माली से पीछे हटने का निर्णय लेते समय अफगानिस्तान में अमेरिका की गलतियों को न दोहराना अच्छा होगा।

भारत के भी इस क्षेत्र में राजनीतिक और आर्थिक हित है। नाइजीरिया में भारत के बड़े आर्थिक हित हैं। भारत नाइजीरिया का सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार है। साथ ही, नाइजीरिया अफ्रीका में भारत का सबसे बड़ा व्यापारिक भागीदार है, जिसका द्विपक्षीय व्यापार 2019-20 में  बढ़कर 13.89 बिलियन अमेरिकी डॉलर हो गया। नाइजीरिया भारत का प्रमुख ऊर्जा सुरक्षा भागीदार है। भारतीय स्वामित्व वाली/संचालित कंपनियां नाइजीरियाई सरकार के बाद नाइजीरिया में दूसरी सबसे बड़ी नियोक्ता हैं। वर्तमान में 135 से अधिक भारतीय कंपनियां नाइजीरिया में फार्मास्यूटिकल्स, इंजीनियरिंग सामान, विद्युत मशीनरी और उपकरण, प्लास्टिक, रसायन आदि में विविध क्षेत्रों में काम कर रही हैं। भारत ने नाइजीरिया में पारंपरिक और नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में 175 मिलियन अमेरिकी डॉलर का निवेश किया था। यदि बोको हरम, जो उत्तरी और पूर्वी नाइजीरिया में सक्रिय है, तालिबान की सफलता से प्रेरित है और अन्य जिहादी संगठनों द्वारा समर्थित है और यदि वह नाइजीरिया के अन्य हिस्सों में अपना प्रभाव बढ़ाने में सक्षम हो जाता है, तो यह प्रवासी भारतीयों के साथ साथ भारतीय स्वामित्व वाली एवं उनके द्वारा संचालित कंपनियों के लिए गंभीर जोखिम की स्थिति हो सकती है।

भारत द्वारा, विभिन्न बिजली उत्पादन और अन्य बुनियादी ढांचा परियोजनाओं के लिए माली को 300 मिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक का ऋण प्रदान किया गया है। इनमें से कुछ परियोजनाएं मालियन सार्वजनिक और निजी कंपनियों द्वारा संचालित की जा रही हैं, जबकि कई अन्य भारतीय कंपनियों द्वारा निष्पादित की जा रही हैं। ऊर्जा क्षेत्र, कृषि, खाद्य प्रसंस्करण और रेलवे की कई अन्य परियोजनाओं में भी भारतीय उपस्थिति है।

इसी प्रकार, भारत के चाड, नाइजर, मॉरिटानिया, कैमरून और बुर्किना फासो जैसे अन्य देशों के साथ सौहार्दपूर्ण संबंध हैं और सौम्य विकास सहायता, बुनियादी ढांचे के विकास के लिए क्रेडिट लाइन और सहायता अनुदान के माध्यम से इन देशों के साथ अपने संबंधों को बढ़ाने के लिए उत्सुक है। हाल ही में सऊदी अरब के नेतृत्व में कई अति रूढ़िवादी इस्लामी राष्ट्रों में उदार सुधारों की लहर आई है, जिसमें महिलाओं को कुछ ऐसे अधिकार प्रदान किये जा रहे हैं जो कुछ वर्ष पूर्व तक अकल्पनीय थे।

यद्यपि, अफ्रीका में अनेक रूढ़िवादी गरीब इस्लामिक देश हैं, जो युवाओं के अति-कट्टरपंथीकरण और विभिन्न जिहादी आतंकवादी समूहों द्वारा नए रंगरूटों की खोज का कार्य करते हैं। इसमें आर्थिक रूप से समृद्ध इस्लामी राष्ट्र और उसमें कुछ अन्य गैर-राज्य नेता जिहाद के प्रचार के लिए इन्हें वित्तीय सहायता प्रदान कर सकते हैं । यह गरीब राष्ट्र हैं जो इन समूहों को सैनिक  प्रदान करते  हैं। इस्लामिक राष्ट्रों में इन सुधारों में वृद्धि की  अत्यधिक आवश्यकता है, जिससे इन अविकसित एवं कम विकसित राष्ट्रों को अति कट्टरपंथियों  का आश्रय न  लेना पड़े।

इन देशों में सुरक्षा की थोड़ी सी भी कमी परियोजनाओं के निष्पादन को प्रभावित करेगी। यदि भारत को इस क्षेत्र में अपने राजनीतिक और आर्थिक हितों की रक्षा करनी है, तो उसे यह सुनिश्चित करने के लिए पहले से अधिक प्रयासों के लिए तत्पर रहना होगा।  सुरक्षा की स्थिति उस बिंदु तक न पहुँच जाए जहां उसके हितों को अपरिवर्तनीय खतरा हो। हालांकि भारत अमेरिकी ऑपरेशन स्वतंत्रता के प्रहरी के पैमाने और दायरे के संचालन  में सक्षम नहीं हो सकता, परंतु उसे आतंकवाद के विरुद्ध प्रशिक्षण, खुफिया जानकारी साझा करने, रोजगार सृजन, कट्टरता, शिक्षा और महिला सशक्तिकरण के क्षेत्र में संबंधित राज्यों के साथ  मिलकर काम करना चाहिए। भारत को इन पहलों को अंतर्राष्ट्रीय निकायों के साथ भी साँझा करने के लिए तैयार रहना चाहिए।

तालिबान की सफलता से प्रेरित और उत्साहित जिहादी हिंसा में अभूतपूर्व  वृद्धि हुई है और विभिन्न इस्लामी आतंकवादी समूहों द्वारा मौजूदा सरकारों को चलाने के प्रयास करने से इंकार नहीं किया जा सकता। अफगानिस्तान पहला और आखिरी मामला नहीं है। मानवाधिकारों की रक्षा और निर्दोष नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करने और कानूनी शासन  बनाए रखने के लिए जिहादी ताकतों को अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञों से  मुकाबला करना होगा।

आतंक के  विरुद्ध  वैश्विक युद्ध का मिशन पूरा नहीं हुआ है। यह कार्य अभी प्रगति पर है और इसे अमेरिका सहित सभी प्रमुख वैश्विक शक्तियों का वित्तीय, भौतिक और जनशक्तिगत समर्थन प्राप्त करने का प्रयास जारी रखना चाहिए। मानव अधिकारों के उत्पीड़न को जड़ से समाप्त करने एवं लोकप्रिय लोकतांत्रिक शासन बहाल करने के लिए अन्य उपाय करने की भी आवश्यकता होगी।

वैश्विक शक्तियों एवं संस्थानों को ऐसे परिदृश्यों के लिए योजनाएं बनाने की आवश्यकता है क्योंकि अंतिम चरण में किया गया कोई भी प्रयास समाधान की क्षमता नही रखता। यदि इन उपायों को संयुक्त राष्ट्र के झंडे के तले किया जाए तो यह अधिक स्वीकार्य होंगे। इन कार्यक्रमों  के अधीन किये जाने वाले सभी प्रयासों का उद्देश्य न केवल विकासात्मक कमियों को दूर करना अपितु जिहादी आतंकवाद को विकसित करने वाली मूल जड़ को ही समाप्त करना हो।

आधुनिक शिक्षा, लैंगिक समानता, विधि सम्मत शासन के प्रति सम्मान और मानवाधिकारों को सफल बनाने के लिए राष्ट्र निर्माण के प्रयासों की नींव मजबूत होनी चाहिए। विकास के यह प्रयास केवल राजधानी और कुछ शहरों तक ही केंद्रित नहीं होने चाहिए, बल्कि  इसे देश के दूरदराज  हिस्सों तक भी पहुंचना चाहिए। इसके अतिरिक्त, बाहरी समुदायों के रूढ़िवादी दृष्टिकोण को आधुनिक वैश्विक मूल्यों के साथ संरेखित करने के लिए धीमे लेकिन निश्चित परिवर्तन लाने का प्रयास करना चाहिए।

आधुनिक शिक्षा द्वारा महिलाओं के सशक्तिकरण के माध्यम से ऐसा बेहतर ढंग से  किया जा सकता है। हम अफगानिस्तान में  महिलाओ का जो विरोध प्रदर्शन देख रहे हैं, वह एक गहन रूढ़िवादी समाज में महिलाओं के सशक्तिकरण को दर्शाता है और संयुक्त बलों द्वारा कब्जे के सकारात्मक परिणामों में से एक है, लेकिन ये विरोध काबुल और कुछ अन्य शहरों तक सीमित हैं। यदि अफगानिस्तान के सभी शहरों में इस तरह के विरोध प्रदर्शन होते, तो क्रूर तालिबान के लिए भी अपने नागरिकों की आवाज को दबाना बेहद असंभव हो जाता।

यदि राष्ट्र निर्माण के ये उपाय संयुक्त राष्ट्र की विभिन्न विशेषज्ञ एजेंसियों के अधीन  किए जाते हैं और यह सुनिश्चित किया जाता है कि सेवाओं का वितरण सभी वंचितों तक  पहुंचेगा, तो अफगानिस्तान में पराजय की पुनरावृत्ति से बचा जा सकता है। संयुक्त राष्ट्र संकट प्रबंधन टीमों को इस तरह की आकस्मिकताओं के लिए पूरी गंभीरता से योजना बनाने की  आवश्यकता है, अभी अमेरिका  की अफगानिस्तान में चूक और इससे सीखे जाने वाले सबक ताजा हैं । अन्यथा दुनिया  एक और मानवीय  बर्बादी को चुपचाप देखने के लिए तैयार   है।

*****


लेखक
कर्नल दीपक कुमार एक सेवारत भारतीय सेना अधिकारी हैं और ऑब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन में एक्सीलेंस फाॅर डिफेंस सर्विसेस के अध्यक्ष रहे हैं।

अस्वीकरण

इस लेख में व्यक्त विचार लेखक के निजी हैं और चाणक्य फोरम के विचारों को नहीं दर्शाते हैं। इस लेख में दी गई सभी जानकारी के लिए केवल लेखक जिम्मेदार हैं, जिसमें समयबद्धता, पूर्णता, सटीकता, उपयुक्तता या उसमें संदर्भित जानकारी की वैधता शामिल है। www.chanakyaforum.com इसके लिए कोई जिम्मेदारी नहीं लेता है।


चाणक्य फोरम आपके लिए प्रस्तुत है। हमारे चैनल से जुड़ने के लिए यहां क्लिक करें (@ChanakyaForum) और नई सूचनाओं और लेखों से अपडेट रहें।

जरूरी

हम आपको दुनिया भर से बेहतरीन लेख और अपडेट मुहैया कराने के लिए चौबीस घंटे काम करते हैं। आप निर्बाध पढ़ सकें, यह सुनिश्चित करने के लिए पूरी टीम अथक प्रयास करती है। लेकिन इन सब पर पैसा खर्च होता है। कृपया हमारा समर्थन करें ताकि हम वही करते रहें जो हम सबसे अच्छा करते हैं। पढ़ने का आनंद लें

सहयोग करें
Or
9289230333
Or

POST COMMENTS (0)

Leave a Comment