• 25 September, 2022
Foreign Affairs. Geopolitics. National Security.
MENU

आधुनिक हथियार

‘आकाश’: भारत का वायु रक्षा कवच

भारत की सीमाओं की सुरक्षा भारतीय सशस्त्र बलों की सर्वोपरि जिम्मेदारी है। इसके लिए देश को तीनों आयामों से आने वाले प्रतिकूल खतरे को विफल करने के लिए तैयार रहना…

ब्रिगेडियर अरविंद धनंजयन (सेवानिवृत्त), सलाहकार संपादक रक्षा

एएसएटी सिस्टम्स: विकसित सभ्यता का वरदान या अभिशाप?

प्रमुख अंतरिक्ष शक्तियों द्वारा परीक्षण किए गए उन्नत हथियार 'अत्यधिक सैन्यीकरण' और वैश्विक 'हथियारों की दौड़' के बढ़ने से चिंता का बढ़ना अनिवार्य है। सारी दुनिया की भौंहें उस समय…

ब्रिगेडियर अरविंद धनंजयन (सेवानिवृत्त), सलाहकार संपादक रक्षा

भारत की नई मिसाइलें: तरकश में ‘ब्रह्मास्त्र’!

ब्रह्मास्त्र (ब्रह्मास्त्र): एक दिव्य हथियार, अकाट्य, स्वयं भगवान ब्रह्मा द्वारा प्रदत्त (निर्मित)  भारत के 'ब्रह्मास्त्र', या सतह से सतह पर मार करने वाली मिसाइल (एसएसएम) का जन्म डीआरडीओ के एकीकृत…

ब्रिगेडियर अरविंद धनंजयन (सेवानिवृत्त), सलाहकार संपादक रक्षा

साउंड रेंजिंग सिस्टम: फायर करते ही भांप लेगा स्थान

सैन्य क्षमता की प्रगति की दौड़ में, कभी-कभी ऐसा होता है कि समय की कसौटी पर खरा उतरने वाले प्रौद्योगिकीयुक्त उपकरणों की तुलना में प्रतिकूल संघर्षमय वातावरण में काम करने…

ब्रिगेडियर अरविंद धनंजयन (सेवानिवृत्त), सलाहकार संपादक रक्षा

मानव रहित समुद्री प्रणाली: निर्बाध महासागर को दे रहा आकार

काल्पनिक परिदृश्य-25 अगस्त 2024: दक्षिण चीन सागर (South China Sea) में स्थित पैरासेल द्वीप समूह पर चीन   सैन्य बुनियादी ढांचे के निरंतर विकास के जवाब में अमेरिकी नौसेना, अपने नेविगेशन…

ब्रिगेडियर अरविंद धनंजयन (सेवानिवृत्त), सलाहकार संपादक रक्षा

समुद्री टोही मंच : बहुक्षेत्रीय जागरूकता के लिए महत्वपूर्ण

लड़ाकू प्रवृत्ति की आबादी वाले देशों और बढ़ते युद्ध क्षेत्रों वाले वैश्विक परिदृश्य में हमारे सशस्त्र बलों को तीनों क्षेत्रों में लगातार, सटीक और मजबूत आईएसआर यानी इंटेलीजेंस (खुफिया), सर्विलांस…

ब्रिगेडियर अरविंद धनंजयन (सेवानिवृत्त), सलाहकार संपादक रक्षा

स्वाति डब्ल्यूएलआर : पलक झपकते पता लगायेगा दुश्मन के हथियार

1999 के कारगिल युद्ध ने हमें कई सबक सिखाये। उसमें से एक था अप्रत्यक्ष-फायर करने वाले हथियारों के स्थान का सटीक पता लगाना, ताकि विरोधी के तोपखाने को बेअसर किया…

ब्रिगेडियर अरविंद धनंजयन (सेवानिवृत्त), सलाहकार संपादक रक्षा

दुबई एयर शो 2021: भारतीय सशस्त्र बलों के लिए अवसर?

दुबई एयर शो (डीएएस) 2021 का आयोजन अल मकतूम अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे, दुबई में 14-18 नवंबर 2021 तक किया गया। विगत दो वर्षों में यूरोप के फार्नबोरो और पेरिस में…

ब्रिगेडियर अरविंद धनंजयन (सेवानिवृत्त), सलाहकार संपादक रक्षा

भारत का धनुष होवित्जर: फीनिक्स की उड़ान

अपनी आर्टिलरी प्रोफाइल को आधुनिक बनाने की दिशा में, भारतीय सेना (IA) ने 1999 के कारगिल युद्ध के बाद फील्ड आर्टिलरी रेशनलाइजेशन प्लान (FARP) शुरू किया, जिसमें आर्टिलरी हथियार प्रणाली…

ब्रिगेडियर अरविंद धनंजयन (सेवानिवृत्त), सलाहकार संपादक रक्षा

भारतीय अर्जुन मार्क-1ए बनाम पाकिस्तानी वीटी-4: प्रतिद्वंद्वी अग्निरथ

जमीन पर किसी भी मशीन की पैंतरेबाजी दुश्मन खेमे में उतनी दहशत और चिंता नहीं पैदा कर सकती जितना कि एक मुख्य युद्ध टैंक-युद्ध के मैदानों में इनकी गड़गड़ाहट से…

ब्रिगेडियर अरविंद धनंजयन (सेवानिवृत्त), सलाहकार संपादक रक्षा

भारत का डसॉल्ट राफेल और पाकिस्तान का JF-17: किसमें कितना है दम?

ऐतिहासिक तौर पर कहा जा सकता है कि लड़ाकू विमानों का नामकरण ऐसी मशीनों के आने के बहुत बाद में किया गया। ब्रिटिश रॉयल फ्लाइंग कॉर्प्स (प्रथम विश्व युद्ध में…

ब्रिगेडियर अरविंद धनंजयन (सेवानिवृत्त), सलाहकार संपादक रक्षा

JADC2: ऑल-डोमेन ऑपरेशंस का लीडर

स्रोत: news.usni.org काल्पनिक परिदृश्य (04 जुलाई 2028): एक उत्तर कोरियाई ICBM प्योंगयांग के बाहर से लॉन्च किया गया है। प्रक्षेपण के 10 सेकंड बाद, इसमें से निकले हीट (ऊष्मा) को…

ब्रिगेडियर अरविंद धनंजयन (सेवानिवृत्त), सलाहकार संपादक रक्षा

ताज़ा खबर